टोक्यो ओलंपिक 2020 ज़ोरदार तरीके से खेला जा रहा है. भारत ने पहले दिन ही वेटलिफ्टिंग इवेंट में सिल्वर मेडल जीत इसकी शानदार शुरुआत भी कर ली है. दूसरे दिन भी पीवी सिन्धू, मैरी कॉम और मनिका बत्रा ने कई इवेंट्स में मेडल की उम्मीद को ज़िंदा रखा है. लेकिन इसी बीच एक खिलाड़ी के गोल्ड मेडल जीतने की खबर पर ढेर सारे लोगों ने बधाई संदेश देने शुरू कर दिए.

इस खिलाड़ी का नाम है पहलवान प्रिया मलिक. प्रिया मलिक के गोल्ड मेडल जीतने की खबर जैसे ही आई. बहुत से लोगों ने लिखा, टोक्यो ओलंपिक का पहला गोल्ड. लेकिन यहीं भारतीय फैंस ने गलती कर दी. क्योंकि जब प्रिया टोक्यो में हैं ही नहीं तो ओलंपिक में गोल्ड कैसे जीतेंगी?

दरअसल प्रिया इस समय हंगरी के बुडापेस्ट में 2021 वर्ल्ड कैडेट रेसलिंग चैम्पियनशिप टूर्नामेंट में भारत का प्रतिनिधत्व कर रही हैं. जहां पर उन्होंने गोल्ड मेडल जीत भारत का नाम ऊंचा किया है.

कई लोगों को ओलंपिक की वजह से ये गलतफहमी हुई कि प्रिया मलिक ने टोक्यो में गोल्ड मेडल जीता है. जबकि उन्होंने वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में ये कारनामा किया है. प्रिया ने 73kg वर्ग में भारत के लिए ये गोल्ड मेडल जीता है.

कैडेट वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप में भारत ने पांच में से दो गोल्ड मेडल पर कब्जा जमाया है. एक गोल्ड प्रिया मलिक ने जीता, वहीं दूसरा गोल्ड 43kg वर्ग में तन्नू मलिक ने जीता है. इन दोनों ने ही फाइनल्स मुकाबले में अपना दबदबा बनाए रखा.

प्रिया मलिक ने फाइनल्स में जैसे ही बेलारूस की रेसलर को हराया. उनके गोल्ड मेडल की खबर वायरल हो गई. जिसके बाद वो लंबे समय तक सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगी. क्योंकि ढेर सारे लोगों ने उन्हें टोक्यो ओलंपिक के नाम पर बधाई संदेश दे दिए.

कई फैंस ने दी गलतफहमी में ओलंपिक की बधाई

ओलंपिक से भले ही कुश्ती में अभी कोई मेडल नहीं आया है. लेकिन टोक्यो गए दल से भारत को कुश्ती में मेडल की उम्मीद अभी बरकरार है.

By Taniya Chauhan

सच्चाई जिसे आप देखना चाहते है