(BJP) की बैठक के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए हरियाणा (Haryana) में करनाल(Karnal) की तरफ जा रहे किसानों ने शनिवार को एक टोल प्लाजा पर कब्जा कर लिया. जिसके बाद रास्ता खुलवाने के लिए पुलिस भीड़ पर लाठीचार्ज (Lathi Charge) किया.

BKU Rakesh Tikait on Karnal Lathi Charge: हरियाणा के करनाल जिले में बीजेपी बैठक का विरोध कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज (Karnal Lathi Charge) के मामले ने तूल पकड़ लिया है। आंदोलनरत किसानों की अगुवाई कर रहे हैं भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने किसानों पर किए गए लाठीचार्ज (karnal lathi charge) पर नाराजगी जाहिर की है। राकेश टिकैत ने ट्वीट करते हुए कहा कि हरियाणा के करनाल में बसताड़ा टोल पर आंदोलित किसानों पर लाठीचार्ज दुर्भाग्यपूर्ण है। टिकैत (Rakesh Tikait) ने कहा कि 5 सितंबर मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत से ध्यान भटकाने के लिए सरकार षड्यंत्र रच रही है। उन्होंने पूरे देश के किसानों से अपील करते हुए कहा कि किसान पूर्ण रूप से तैयार रहें। SKS के फैसले का पालन करें।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा में निकाय और पंचायत चुनावों की तैयारियों के मद्देनजर आज करनाल में प्रदेश स्तर बैठक का आयोजन किया गया था। इस बैठक में राज्य के मुख्यमंत्री समेत पार्टी के सांसद व विधायक शामिल हुए। किसानों ने शुक्रवार शाम को ही इस बैठक के विरोध का ऐलान किया गया था, लिहाजा भारी पैमाने पर सुरक्षा की व्यवस्था थी, दूसरी तरफ किसान भी एकत्रित हो गए थे।

किसानों की भीड़ को देखते हुए पुलिस द्वारा सभी रूट्स को सील कर दिया गया था। नाराज किसानों ने NH 44 पर बसतांडा टोल प्लाजा पर जाम लगा दिया। दोपहर में पुलिस किसानों को समझाने गई तो तनातनी की स्थिति हो गई, पुलिस की तरफ से लाठीचार्ज कर दिया गया, पुलिस की लाठीचार्ज (karnal lathi charge) में कई किसान घायल बताए जा रहे हैं।

वहीं इस मामले पर राजनीति बयानबाजी भी तेज हो गई है। कांग्रेस नेता और IYC के अध्यक्ष श्रीनिवास से लाठीचार्ज (karnal lathi charge) का वीडियो शेयर करते हुए केंद्र की मोदी सरकार और हरियाणा की खट्टर सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि मारिये-मारिये किसान है, इनकी हिम्मत कैसे हुई उद्योगपति सरकार से अपना हक मांगने की, उन्होंने आगे पूछा कि दिल पर हाथ रखकर बताइए, क्या ये जय जवान-जय किसान वाला भारत है?
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि किसानों ने ऐलान किया है कि वह बीजेपी के किसी भी कार्यक्रम को होने नहीं देंगे। पिछले महीने पानीपत में एक कार्यक्रम के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं और किसान नेताओं के बीच धक्का मुक्की जैसे हालात बन गए थे।

By Taniya Chauhan

सच्चाई जिसे आप देखना चाहते है