BJP MP KAMLESH PASWAN : दोस्तों गोरखपुर के संसदीय क्षेत्र बांसगांव में लोगों का गुस्सा सातवें आसामान पर दिखाई दिया…. सांसद कमलेश पासवान चौरीचौरा क्षेत्र के राजधानी गांव पहुंचे थे… सियासत करने नही बाढ़ से परेशान गांव वालों की मदद करने को… लेकिन सांसद जी को क्या पता था कि वो जिन गांव वालों की मदद करने जा रहे हैं….वही गांव वाले उनको खरी-खोटी सुनाने लगेंगे… गांव वालों की नाराजगी देख पहले तो सांसद जी ने गांव वालों की समझाने की कोशिश की… लेकिन गांव वालों के बीच खुद को घिरता देख सांसद जी मौके से खिसक लिए…

दोस्तों चौरी चौरा में सांसद कमलेश पासवान बाढ़ से परेशान गांव वालों की मदद करने को पहुंचे थे…. जहां बाढ़ से परेशान लोगों ने सांसद जी को जमकर खरी-खोटी सुनाई…गांव वालों ने कहा कि इतने दिनों से हम लोग दुश्वारियों से जूझ रहे हैं…. हम गांव वालों को एक नाव तक नहीं दी गई…. अब जब गांव में पानी कम हो गया हैं… तो सांसद जी यहां क्या करने आए हैं?….

दोस्तों का गांव वालों का गुस्सा लाजमी हैं… गांव वालों का कहना था कि कमलेश पासवान का गांव में बाढ़ आने के बाद क्षेत्र में यह पहला दौरा हैं…. गांव वालों ने कहा कि 7 साल से सांसद कमलेश पासवान इससे पहले आखिरी बार क्षेत्र में कब दिखे थे, उन्हें याद नहीं है… कोरोना के बाद गांव वाले अब बाढ़ की मार झेल रहे, बावजूद इसके कोई हमारी मदद को आगे नहीं आया हैं….

दोस्तों उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बीते दिन गोरखपुर में बांसगांव के सांसद कमलेश पासवान के साथ बाढ़ ग्रासित इलाकों का दौरा किया था…. साथ ही बाढ़ से प्रभावित लोगों के बीच राहत सामग्री पहुंचाने की बात कही थी… चौरीचौरी क्षेत्र में सिलहटा बांध टूटने से दर्जन भर गांवों के 30 हजार गांव वाले गांव घर छोड़कर ऊंचे-ऊंचे टीलों पर जैसे-तैसे महीनों से डेरा डालकर गुजर बसर कर रहे थे… फिर भी महिनों बीत जाने के बाद गांवों वालों की सुध लेने के लिए कोई अधिकारी या मंत्री गांव वालों के पास नही पहुंचा था…

गांव वालों में नाराजगी थी कि जब से सिलहटा बांध का पानी गांव में भरा हैं…. तब से गांव वालों को राशन पानी की किल्लत हो रही हैं… जानवरों को चारा नही मिल रहा, बच्चों कों दूध नही मिल रहा…दोस्तों बीजेपी सांसद के लिए गांव वालों का विरोध बताता है कि शासन-प्रशासन की तरफ से गांव वालों में राशन और राहत सामग्री नही दी गई….और न ही उन्हें कोई मदद मिल रही हैं…