एक डिबेट में कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने महंगाई को लेकर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। वहीं बीजेपी प्रवक्ता गोपल कृष्ण ने आंकड़ों के जरिए बचाव करते हुए कहा कि सरकार जन कल्याणकारी योजनाओं में पैसे खर्च कर रही है।

देश में बढ़ती महंगाई को लेकर विपक्ष, केंद्र सरकार पर लगातार निशाना साध रहा है। एक टीवी शो में इसी मुद्दे को लेकर कांग्रेस और बीजेपी के प्रवक्ता आपस में भिड़ते नजर आए। कांग्रेस प्रवक्ता ने जब महंगाई और बेरोजगारी पर सवाल उठाया तो बीजेपी प्रवक्ता ने कांग्रेस कार्यकाल की याद दिलाते हुए पलटवार किया।

कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक ने न्यूज 24 पर चल रहे एक बहस में भाग लेते हुए मंहगाई पर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा। ऐंकर के सवाल के जवाब में रागिनी मे कहा कि कमल का फूल, सबसे बड़ी भूल हो गई जनता से। पांच साल तो झेलने ही पड़ते हैं।

रागिनी ने कहा- “आंकड़ों के जाल में फंसाना जितना आसान है, असलियत में सवालों के जवाब देना उतना ही मुश्किल है। जनता तो ये जानती है कि आज देश में महंगाई की मार है। पेट्रोल डीजल सौ के पार है। एलपीजी की बढ़ती दामों की रफ्तार है। ऊपर से नौजवान भी बेरोजगार है और संवेदनशीलता से बहुत दूर मोदी सरकार है”।

ऐंकर के बीच में टोकने पर रागिनी नायक ने कहा कि इससे पहले भाजपा के प्रवक्ता कोरोना का रोना, रोने लग जाएं। 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी कोरोना से पहले ही हो गई थी। रागिनी ने इस दौरान नोटबंदी का भी जिक्र किया और मनमोहन सिंह की नसीहत को भी याद दिला दी। उन्होंने आगे कहा कि मोदी जी की नीतियां सारी विफल हो गई, यही सच्चाई है।

कांग्रेस प्रवक्ता रागिनी नायक पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता गोपाल कृष्ण अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस सरकार में तो सारा पैसा नेताओं की जेब में जाता था। उन्होंने कहा- “पेट्रोल की मार पड़ रही है, सब पर पड़ रही है। सरकार कल्याणकारी योजनाओं पर भी पैसे खर्च कर रही है। किसानों को सीधे पैसा दे रही है सरकार। करोड़ों घरों में पानी पहुंचाई गई है। महंगाई की दर अभी भी 6% से कम है, हमारी सरकार पूरी तरह सजग है”।

बता दें कि देश में लगातार रसोई गैस और तेल के दाम बढ़ रहे हैं, जिससे आम जनता परेशान है। हालांकि सरकार महंगाई कम होने के लिए आंकड़े गिना रही है, लेकिन विपक्ष इन आंकड़ों को लेकर भी सरकार पर निशाना साध रहा है।